भारत की 5 जगह जहां राम नहीं, रावण की पूजा होती है भारत मे

नई दिल्ली: 30 सितंबर को भारत में दशहरा मनाया जाएगा. पूरे देश में रावण का पुतला जलाया जाता है और भगवान राम की पूजा की जाती है. लेकिन भारत में ऐसी कई जगहें हैं, जहां पर भगवान राम की नहीं बल्कि रावण की पूजा की जाती है. उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में ऐसे कुछ स्थानों पर रावण की पूजा करने का कारण भी बताया गया है. आइए आज हम आपको बताते हैं कि आखिर भारत के इन 5 स्थानों पर क्यों की जाती है रावण की पूज
मध्य प्रदेश
मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में एक गांव है, जहां राक्षसराज रावण का मंदिर बना हुआ है. यहां रावण की पूजा होती है. यह रावण का मध्यप्रदेश में पहला मंदिर था. मध्यप्रदेश के ही मंदसौर जिले में भी रावण की पूजा की जाती है. मंदसौर नगर के खानपुरा क्षेत्र में रावण रूण्डी नाम के स्थान पर रावण की विशाल मूर्ति है. कथाओं के अनुसार, रावण दशपुर (मंदसौर) का दामाद था. रावण की धर्मपत्नी मंदोदरी मंदसौर की निवासी थीं. मंदोदरी के कारण ही दशपुर का नाम मंदसौर माना जाता है.
कर्नाटक
कोलार जिले में लोग फसल महोत्सव के दौरान रावण की पूजा करते हैं और इस मौके पर जुलूस भी निकाला जाता है. ये लोग रावण की पूजा इसलिए करते हैं क्योंकि वह भगवान शिव का परम भक्त था. लंकेश्वर महोत्सव में भगवान शिव के साथ रावण की प्रतिमा भी जुलूस में निकाली जाती है. इसी राज्य के मंडया जिले के मालवल्ली तहसील में रावण का एक मंदिर भी है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *