कुछ समाचार पत्रों ने इसे मोरल पुलिसिंग करार ठहराया है तो कुछ ने इस पुलिस सिस्टम की तुलना तालिबानी शासन से की है।

लखनऊ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के एंटी रोमियो स्क्वॉड की देश में भले ही तारीफ हो रही हो, लेकिन अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने योगी के इस अभियान की तीखी आलोचना की है। कुछ अखबारों ने इसे मोरल पुलिसिंग करार दिया है तो कुछ ने इस पुलिस सिस्टम की तुलना तालिबानी शासन से की है।

ब्रिटिश अखबार ‘द टेलीग्राफ’ के मुताबिक योगी आदित्य नाथ ने सीएम बनते ही बिगड़ैल किस्म के लोगों को काबू में करने के लिए एंटी रोमियो स्क्वैड का गठन कर दिया है, और इसे दूसरे राज्यों में भी लागू किया जा रहा है। अखबार आगे लिखता है कि इस दल को कई लोगों ने तालिबान जैसा मोरल पुलिसिंग करने वाला करार दिया है। अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक विपक्षी दलों ने इसे राजनीतिक हथकंडा करार दिया है।

अमेरिकी अखबार ‘वाशिंगटन पोस्ट’ के मुताबिक योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालते ही दो फैसलों से अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी है। सीएम ने सबसे पहले अवैध कत्लखाने बंद करा दिये और मनचलों पर कार्रवाई के लिए एंटी रोमियो दल का गठन कर दिया। अखबार के मुताबिक कई लोग इसे मोरल पुलिसिंग करार दे रहे हैं।

ब्रिटेन के दूसरे अखबार ‘द डेली एक्सप्रेस’ के मुताबिक एंटी रोमियो स्क्वॉड ने उन परिवारों में खलबली मचा दी है, जिनके बच्चे एंटी रोमियो स्क्वॉड द्वारा पकड़े जाते हैं। इन परिवारों का मानना है कि सरकार उनके बच्चों को निशाना बना रही है। ये अखबार उस रिपोर्ट पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहा था जिसमें एक महिला पुलिस अधिकारी छेड़खानी के आरोपी शख्स को पीट रही होती है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *