इलाहाबाद में अर्धकुंभ से पहले 3200 करोड़ का काम होगा

[sgmb id=”1″]

सोमवार को डीएम की समीक्षा बैठक में सभी विभागों ने अर्धकुंभ के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) पेश की।

इलाहाबाद (जागरण संवाददाता)। जिले के अफसरों ने जो खाका तैयार किया है अगर उस पर शासन राजी हो गया तो अर्धकुंभ के बजट से शहर का कायापलट हो जाएगा। शहर में कई ओवरब्रिज से लेकर सड़कों, पार्को, बांध, पेयजल और बिजली व्यवस्था आदि पर दो हजार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करने की की गई है। सोमवार को डीएम की समीक्षा बैठक में सभी विभागों ने अर्धकुंभ के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) पेश की।

कलेक्ट्रेट के संगम सभागार में हुई बैठक में नगर पंचायत झूंसी समेत 23 विभागों के अधिकारियों ने हिस्सा लिया और कुल 3221 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट पेश किए जिसमें से 2398 करोड़ रुपये से स्थायी निर्माण कार्य कराए जाने हैं। इस बजट से शहर में बड़े पैमाने पर सड़कों के विकास के साथ फ्लाईओवर बनेंगे, नगर निगम में बड़े पैमाने पर शहर की व्यवस्था बनाने के लिए उपकरण खरीदे जाएंगे। पार्को, पार्किंग आदि का विकास होगा।

इसके अलावा बाढ़ प्रखंड द्वारा भी शहर को बाढ़ से बचाने के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य कराए जाएंगे। डीपीआर में स्थायी कार्यो के लिए सबसे अधिक बजट लोनिवि ने 543 करोड़, एडीए 463 करोड़, ऊर्जा निगम 245 करोड़, बाढ़ प्रखंड 302 करोड़, 278 करोड़ सेतु निगम, 335 करोड़ नगर निगम, और झूंसी नगर पंचायत ने 22 करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट प्रस्तुत किए। जिलाधिकारी संजय कुमार ने बताया कि यह प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि अर्धकुंभ में आने वाली श्रद्धालुओं की संख्या और शहर की जरूरतों को देखते हुए प्रस्ताव तैयार किए गए हैं।

 

ज्यादातर बजट स्थायी कार्यो पर खर्च करने की योजना है, ताकि इसका लाभ हमेशा मिल सके।ओवरहेड टैंकों की होगी जांच: शहर में ओवरहेड टैंक तो बने हैं लेकिन वे काम नहीं कर रहे हैं। इस बात पर नाराजगी जाहिर करते हुए डीएम ने जल निगम के अफसरों को खूब फटकार लगाई। कहा कि इसकी जांच उच्चाधिकारियों से कराई जाएगी और जो भी जिम्मेदार होगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *