आर्मी चाहती है अपना हवाई बेड़ा, PAK और चीन सीमा के लिए मांगे 39 अपाचे हेलीकॉप्टर

भारतीय सेना अमेरिका से 39 अपाचे हेलीकॉप्टर की खरीदने की मांग रक्षा मंत्री अरुण जेटली के साथ होने वाली बैठक में रखेगी. अपाचे हेलीकॉप्टर की 39 यूनिट की खरीददारी का कुल खर्चा लगभग 12 हजार करोड़ रुपये तक आ सकता है. दरअसल आर्मी के उच्च स्तरीय सूत्रों ने मेल टुडे अखबार को बताया कि पाकिस्तान और चीन की सीमाओं में अपनी फायर पावर बढ़ाने के लिए अपाचे हेलीकॉप्टर की जरूरत है. सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक वायुसेना ने हाल ही में 22 हेलीकॉप्टर की खरीदारी का कॉन्ट्रेक्ट तैयार कर लिया है. हालांकि इन हेलीकॉप्टर का कंट्रोल किसके पास हो, इसे लेकर एयरफोर्स और थलसेना के बीच खींचतान जारी है.

हर मौसम में दिन रात सक्रिय रहता है अपाचे हेलीकॉप्टर
सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, इन हेलीकॉप्टर को तीन स्क्वॉड्रन में बांटा जाएगा. हर एक स्क्वॉड्रन में 10 हेलीकॉप्टर होंगे, जिन्हें पाकिस्तान और चीन की बॉर्डर पर तैनात किया जाएगा. भारतीय सेना फॉरन मिलिट्री सेल्स के जरिये अमेरिका से अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदना चाहती है. इन हेलीकॉप्टरों को दुनिया का सबसे घातक हेलीकॉप्टर बताया जाता है. ये सभी मौसमों में दिन रात सक्रिय रहने की क्षमता वाले ये स्टील्थ हेलीकॉप्टर कहे जाते हैं. यानी दुश्मन देश की सीमा के अंदर उड़ान के दौरान उनकी निगाह इन पर नहीं जा सकेगी. युद्ध का पासा पलटने की क्षमता वाले इन हेलीकॉप्टरों में लेजर और इन्फ्रारेड सिस्टम्स के अलावा अत्याधिक घातक हेलफायर मिसाइल लगे होते हैं.

कि युद्ध के दौरान वायुसेना के मुकाबले थलसेना के अपने फ्लाइंग ऑफिसर उनकी मदद में ज्यादा कारगर साबित होंगे. दरअसल थलसेना के ऑफिसर जमीन में होने वाले युद्ध को ज्यादा बेहतर तरीके से समझते हैं. वहीं, एक आर्मी ऑफिसर के मुताबिक, वायुसेना इन हेलीकॉप्टरों को सेना के साथ शेयर नहीं करना चाहती हैं. आर्मी ऑफिसर के मुताबिक, हमने वायुसेना से 22 अपाचे हेलीकॉप्टर थलसेना को देने की मांग रखी थी, लेकिन उन्होंने इसे मानने से इनकार कर दिया. इसके अलावा 50-50 शेयरिंग पर भी वायुसेना तैयार नहीं है.

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *