आगरा में पुलिस की वसूली से परेशान महिला ने इस रिक्शा में लगाई आग


पीड़ित महिला का कहना था कि एक सप्ताह पहले होमगार्ड ने उसके रिक्शे पर लाठी मारी थी, जिससे एक महिला चोटिल भी हो गई थी।

आगरा (जागरण संवाददाता)। वसूली से आहत महिला चालक ने सोमवार को केरोसिन डालकर ई रिक्शा में आग लगा दी। इसके बाद ई रिक्शा चालकों ने किया। इस दौरान महिला गार्ड से हाथापाई भी हुई। पुलिस ने महिला और उसको उकसाने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

लोहामंडी के खतैना निवासी जेबुनिसां 500 रुपये किराए पर ई रिक्शा चलाती हैं। सोमवार शाम पांच बजे वह भगवान टॉकीज से सवारी बैठाकर जा रही थीं। आरोप है कि दीवानी के गेट के सामने एक महिला होमगार्ड ने उनका रिक्शा रोककर रुपये की मांग की। उन्होंने देने से इन्कार किया तो रिक्शा साइड में खड़ा करा लिया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, सवारियां उतारने के बाद जेबुनिसां ने रिक्शे में रखी केरोसिन भरी बोतल निकाली और कपड़े वाली छतरी पर डाल आग लगा दी।

इसके बाद अपने ऊपर तेल डाल लिया। आसपास के लोगों ने किसी तरह रेत और पानी डालकर आग को बुझाया। महिला रो रोकर पुलिस की वसूली की कहानी कह रही थी। उसका कहना था कि एक सप्ताह पहले होमगार्ड ने उसके रिक्शे पर लाठी मारी थी, जिससे एक महिला चोटिल हो गई। समाजसेवी लव पंडित ने मामले की शिकायत अधिकारियों से की तभी से होमगार्ड उसके पीछे पड़ गए हैं। मौके पर भारी संख्या में ई रिक्शा चालक जुट गए। उन्होंने पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया।

पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी कैमरे में पूरी घटना रिकार्ड है। इसमें महिला आग लगाते हुए दिख रही है। ई रिक्शा चलने से रोकने पर पर महिला को कुछ लोगों ने बरगलाया है। इंस्पेक्टर हरीपर्वत राजा सिंह ने बताया कि महिला और उसे उकसाने वाले लक्ष्मीकांत दुबे समेत अन्य के खिलाफ आग लगाने, महिला गार्ड से मारपीट करने, यातायात बाधित करने और सरकारी कार्य में बाधा पैदा करने की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है।

कैसे चलाएं परिवार का खर्च?: महिला चालक ने बताया कि वह 500 रुपये किराए पर हर दिन ई रिक्शा लेकर आती है। दिन भर मेहनत के बाद सात से आठ सौ रुपये कमाती है। इसमें से 50-100 रुपये पुलिस ले लेती है। ऐसे में वह परिवार का खर्च कैसे चलाए?

क्यों चलते हैं ई रिक्शे?: लंबे समय से एमजी रोड पर ई रिक्शे प्रतिबंधित हैं। इसके बाद भी ये खुलेआम चल रहे हैं। बीच-बीच में पुलिस इन्हें पकड़कर जुर्माना करती है तो कुछ को वसूली कर छोड़ देती है। ई रिक्शा चालकों का कहना है कि पुलिस को रुपये देकर एमजी रोड पर चलने का परमिट मिल जाता है। जो नहीं देते हैं उनसे होमगार्ड अभद्रता और मारपीट करते हैं। मौका मिलने पर उनसे रुपये भी छीन लेते हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *